You are currently viewing गणेश जी की आरती

गणेश जी की आरती

कृपया शेयर करें -
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा।। जय…
एक दंत दयावंत चार भुजा धारी।
माथे सिन्दूर सोहे मूसे की सवारी ।। जय…
अंधन को आँख देत, कोढ़िन को काया।
बाँझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ।। जय…
पान चढ़े फल चढ़े और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा ।। जय…
सूर श्याम शरण आये सफल कीजे सेवा।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ।। जय…
अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर या कॉमेंट जरूर करें।
(कुल अवलोकन 837 , 1 आज के अवलोकन)
कृपया शेयर करें -