अर्गला स्तोत्र हिंदी में | Argala Stotram in Hindi

अर्गला स्तोत्र का पाठ श्री दुर्गा कवच के बाद और कीलक स्तोत्र के पहले किया जाता है। मार्कण्डेय जी कहते हैं – जयन्ती, मंगला, काली, भद्रकाली, कपालिनी, दुर्गा, क्षमा, शिवा,…

Continue Readingअर्गला स्तोत्र हिंदी में | Argala Stotram in Hindi

श्री दुर्गा देवी कवच हिंदी में

श्री दुर्गा कवच (Durga Kawach) - दुर्गा कवच को देवी कवच (Devi Kawach) भी कहते हैं। श्री दुर्गा सप्तशती के पाठ से पहले दुर्गा कवच का पाठ किया जाता है।…

Continue Readingश्री दुर्गा देवी कवच हिंदी में

Shri Ganpati Atharvashirsha in Hindi | श्री गणपति अथर्वशीर्ष (हिन्दी में)

 श्री गणपति अथर्वशीर्ष ॐ नमस्ते गणपतये। त्वमेव प्रत्यक्षं तत्वमसि त्वमेव केवलं कर्ताऽ सि त्वमेव केवलं धर्ताऽसि त्वमेव केवलं हर्ताऽसि त्वमेव सर्वं खल्विदं ब्रह्मासि त्व साक्षादात्माऽसि नित्यम्।।1।। ऋतं वच्मि। सत्यं वच्मि।।2।।…

Continue ReadingShri Ganpati Atharvashirsha in Hindi | श्री गणपति अथर्वशीर्ष (हिन्दी में)

Shri Aditya Hridaya Stotra | श्री आदित्य हृदय स्तोत्र

श्री आदित्य हृदय स्तोत्र (Shri Aditya Hridaya Stotra) - हिंदू धर्म में रविवार का दिन भगवान सूर्य देव को समर्पित है। शास्त्रों में कहा गया है कि व्यक्ति के भाग्य…

Continue ReadingShri Aditya Hridaya Stotra | श्री आदित्य हृदय स्तोत्र

Shree Navdurga Stotra | श्री नवदुर्गा स्तोत्र

यह स्तोत्र नौ देवियों की उपासना करने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस स्तोत्र से देवी का ध्यान कर पढ़ने मात्र से मां…

Continue ReadingShree Navdurga Stotra | श्री नवदुर्गा स्तोत्र

संकट मोचन हनुमानाष्टक | Sankat Mochan Hanuman Ashtak

संकट मोचन हनुमानाष्टक (Sankat Mochan Hanuman Ashtak) - हनुमान जी माता सीता के अत्यधिक प्रिय हैं। हनुमान जी को कई अन्य नामों जैसे बजरंगबली, पवनपुत्र आदि से भी जाना जाता…

Continue Readingसंकट मोचन हनुमानाष्टक | Sankat Mochan Hanuman Ashtak

गणेश स्तोत्र

  गणेश स्तोत्रका  प्रणम्यं शिरसा देव गौरीपुत्रं विनायकम। भक्तावासं: स्मरैनित्यंमायु:कामार्थसिद्धये।।1।। प्रथमं वक्रतुंडंच एकदंतं द्वितीयकम। तृतीयं कृष्णं पिङा्क्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम।।2।। लम्बोदरं पंचमं च षष्ठं विकटमेव च। सप्तमं विघ्नराजेन्द्रं धूम्रवर्ण तथाष्टकम् ।।3।।…

Continue Readingगणेश स्तोत्र

लांगुलास्त्र शत्रुजन्य हनुमत स्तोत्र

लांगुलास्त्र शत्रुजन्य हनुमत स्तोत्र  हनुमन्नञ्जनीसूनो  महाबलपराक्रम। लोलल्लांगूलपातेन ममाऽतरीन् निपातय ।।1।। मर्कटाधिप  मार्तण्ड मण्डल-ग्रास-कारक। लोलल्लांगूलपातेन ममाऽतरीन् निपातय ।।2।। अक्षक्षपणपिङ्गाक्षक्षितिजाशुग्क्षयङ्र। लोलल्लांगूलपातेन ममाऽतरीन् निपातय ।।३।। रुद्रावतार  संसार-दुःख-भारापहारक। लोलल्लांगूलपातेन ममाऽतरीन् निपातय ।।4।। श्रीराम-चरणाम्भोज-मधुपायितमानस। लोलल्लांगूलपातेन…

Continue Readingलांगुलास्त्र शत्रुजन्य हनुमत स्तोत्र

दशरथकृत शनि स्तोत्र

शनि देव जी की पूजा शनिवार के दिन की जाती है। शनिवार के दिन शनि मंदिर में जाकर दीपक जलाना चाहिए और शनि स्त्रोत पढ़े इससे कष्टो से मुक्ति मिलेगी।…

Continue Readingदशरथकृत शनि स्तोत्र

महालक्ष्मी अष्टक स्तोत्र | श्री महालक्ष्म्यष्टकम् | MahaLakshmi Ashtakam

महालक्ष्मी अष्टक स्तोत्र | श्री महालक्ष्म्यष्टकम् ( MahaLakshmi Ashtakam ) - दीपावली दीपों का त्यौहार है इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा का विशेष महत्व है। माँ लक्ष्मी के आठ…

Continue Readingमहालक्ष्मी अष्टक स्तोत्र | श्री महालक्ष्म्यष्टकम् | MahaLakshmi Ashtakam